Mutual Funds Expense Ratio के बारे में सबकुछ।

      Comments Off on Mutual Funds Expense Ratio के बारे में सबकुछ।
 mutual funds expense ratio hindi

Mutual Funds में invest करना पूरी तरह निःशुल्क है. इसमें investment करने का किसी प्रकार का charge नहीं लगता। असल में यह बात पूरी तरह से सच नहीं है.
ये जरूर है कि यहाँ पर निवेश करने के लिए आपसे सीधे तौर पर कोई शुल्क न लेकर उससे Expense Ratio के रूप में लिया जाता है. इसी वजह से कई investors को इस बारे में पता भी नहीं चलता.

Mutual Funds Expense Ratio की परिभाषा


Expense Ratio को हम इस तरह define कर सकते हैं. यह एक तरह का indirect charge है जो mutual fund company अपने funds को mange करने के लिए investors से लेती है. किसी भी fund को हम units में ख़रीदते हैं. और इसी एक unit को manage करने के खर्चे (expense) को Expense Ratio के माध्यम से दिखाया जाता है.

किसी fund का Expense ratio को निकालने के लिए उसपर होने वाले सभी खर्चों को उसके AUM (Assets Under Management) से भाग दिया जाता है.आइए हम इसे एक उदाहरण से समझते हैं. मान लीजिए किसी फंड को mange करने के लिए उसपर 1 लाख का ख़र्च आ रहा, और उस fund का AUM 1 करोड़ है.

उस fund expense ratio निकालने का फार्मूला

Expense Ratio = (सभी ख़र्च) / Total AUM या 1 लाख / 1 करोड़ = 1%

किसी fund पर कितना Expense Ratio हो सकता है?
Fund पर 0.3 से लेकर अधिकतम 2.25 तक का Expense Ratio हो सकता है.

क्या ज़्यादा Expense Ratio का मतलब कम profit है ?
ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. Expense Ratio एक जरुरी factor है, पर सिर्फ़ इसी को देखकर हम profit का अंदाजा नहीं लगा सकते। कई बार हमें ज़्यादा Expense Ratio वाले funds भी बहुत अच्छा profit देते हैं.

कोई investor fund के Expense ratio को कैसे calculate कर सकता है?
एक investor के रूप में आपको इसे calculate करने कि जरुरत नहीं पड़ती. हर fund के factsheet में expense ratio साफ़ -साफ़ लिखा हुआ होता है. ये आपको आसानी से moneycontrol website या mutual funds company के website पर मिल जाता है.

किसी Fund के लिए एक आदर्श expense ratio कितना हो सकता है?
0.3 से 0. 75 तक के expense ratio को अच्छा और investors के हित में माना जाता है. अगर यही ratio 1.5 से अधिक है तो ये investors के returns को कम कर सकता है.

Expense Ratio सबसे ज़्यादा किस बात पर निर्भर करता है?
वैसे तो हर fund को mange करने के कई operational costs होते हैं. पर Expense ratio सबसे ज़्यादा fund के AUM पर निर्भर करता है. अगर fund का AUM कम होगा तब ये ratio ज़्यादा होगा। ऐसा इसलिए होगा क्योंकि fund manage करने के सारे खर्चे उसी AUM से निकले जाते हैं.

Expense Ratio के बारे में Investors को जानना क्यों जरुरी है?
किसी भी fund को चुनने से पहले उसके expense ratio को देखना जरुरी होता है. एक investor इसी को देखकर अनुमान लगाता है कि fund उसके लिए कितना सही है. या कहीं fund ज़्यादा ख़र्चीला तो नहीं है. इसी प्रकार इस ratio की मदद से हम दो funds को compare कर सकते हैं.

क्या Expense Ratio से मेरी investment को नुकसान पहुँचता है?
नहीं , बात चाहे बैंक FD, RD या किसी दूसरे निवेश उपकरण कि हो. हर निवेश उपकरण को manage करने के लिए कई प्रकार के ख़र्चे लगते हैं. Expense Ratio Mutual Funds को अच्छी प्रकार से manage करने के लिए लगाया जाता है. ये आपके निवेश को और मजबूत करता है.